मौसम और जलवायु सेवाएं

Print

परिचालन पूर्वानुमान में एनडब्‍ल्‍यूपी को शुरू किए जाने से कार्य प्रणाली में एक बड़ा बदलाव हुआ है जिससे एक माह से लेकर कुछ घंटों के विभिन्‍न समय पैमानों पर पूर्वानुमान क्षमताओं में वृद्धि हुई है। वेब आधारित प्रसारण के व्यापक उपयोग को जबरदस्‍त सार्वजनिक प्रतिक्रिया मिली है  और ये बहुत ही प्रभावी साबित हुई है। लक्षित प्रयोक्ता को आवश्यक जानकारी की आपूर्ति और आपदा प्रबंधन प्राधिकारियों के साथ संयोजकता को सरल एवं कारगर बनाने को प्राथमिकता दी गई है।

सामान्य पूर्वानुमान सेवाएं : अपनी अद्वितीय भू-जलवायु परिस्थितियों के कारण, भारतीय उपमहाद्वीप दो मानसूनी और चक्रवात मौसम के साथ विभिन्‍न मौसम प्रणालियों का अनुभव करता है। ये प्राकृतिक आपदाओं  जैसे बाढ़, सूखा, लू, शीतलहर, गरज के साथ तूफान, बादल फटना, भूस्खलन, हिमस्खलन, चक्रवात आदि के प्रति भी संवेदनशील है ।चुनौतियां जान-माल और संपति के नुकसान को न्‍यूनत्‍तम करने/ रोकने के लिए ऐसी चरम परिवर्तनीयता के संदर्भ में पूर्वानुमान कौशल में सुधार लाने में है। प्रयोक्‍ता एजेंसियों की संख्‍या तथा अर्थव्‍यवस्‍था के विभिन्‍न क्षेत्रों में मौसम आधारित सेवाएं  प्रदान करने की  विविध मांगों में लगातार वृद्धि हो रही है । पारंपरिक उपयोगकर्ताओं जैसे आपदा प्रबंधक; हवाई यातायात सेवाओं और समुद्री परिवहन ऑपरेटरों के अतिरिक्त, अन्य क्षेत्रों जैसे ऊर्जा, कृषि, पर्यावरण, पर्यटन या मनोरंजक खेलों के लिए वर्तमान और भावी मौसम पर  विश्वसनीय और सबसे अधिक प्रतिनिधि जानकारी की आवश्यकता होती है। इसके अतिरिक्‍त, पूर्वानुमानकों को विशेषकर एनडब्ल्यूपी मॉडल, मौसम वैज्ञानिक उपग्रहों और रडार से उत्पन्न  होने वाले डेटा की मात्रा में वृद्धि आदि का सामना भी करना पडता है। साथ ही, उन्‍हें  एक मात्रात्मक तरीके से अधिक कस्‍टमाइज  जानकारी की आपूर्ति के लिए प्रक्रिया में तेजी भी लानी होती है।

आईएमडी 24x7 मौसम निगरानी कर रहा है और खतरनाक मौसम की चेतावनी जारी करने के लिए एक असफल सुरक्षित मोड में समर्पित दूरसंचार प्रणालियों को कार्यान्‍वित कर रहा है। विभिन्न क्षेत्रों के लिए विशेष मौसम की जानकारी भी जारी की जा रही है। दूरदर्शन और अन्य टीवी चैनलों के लिए मौसम कैप्सूल तैयार किया गया और  उन्‍हें अनुकूलित संचालन प्रक्रियाओं और प्रोटोकॉल के अनुसार प्रचारित किया गया।

कृषि मौसम वैज्ञानिक परामर्शी  सेवा (एएएस):  राज्य कृषि विश्वविद्यालयों और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के कृषि विज्ञान केंद्र (केवीके) के सहयोग से, किसानों के लिए अधिकतम और न्यूनतम तापमान, वर्षा, बादल कवर और सतह आर्द्रता को मिलाकर मौसम के साप्ताहिक पूर्वानुमान के आधार पर परामर्शी सेवाओं को विकसित किया गया। वर्तमान में, ये सेवाएं देश के 539 जिलों में उपलब्ध हैं। इस सेवा के माध्यम से, किसानों को मौसम प्रति संवेदनशील अधिक उपज  वाली बीज की किस्मों को बोने, जरूरत के आधार पर उर्वरक के अनुप्रयोग, कीटनाशकों, कीटाणुनाशकों, कुशल सिंचाई और फसल की बुवाई के समय के संबंध में फसल विशिष्ट परामर्शी सेवाएं प्राप्त होती है। ये  सेवाएँ वेब, रेडियो, टीवी, अखबार, और मोबाइल के माध्यम से उपलब्ध कराई जाती हैं। वर्तमान में, स्थानीय भाषाओं में मोबाइल के माध्यम से यह जानकारी प्राप्त करने के लिए 25.0 लाख से अधिक किसानों ने सदस्यता ली है।

विमानन सेवाएं: चेन्नई, कोलकाता, मुंबई और नई दिल्ली स्‍थित  चार प्रमुख अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर चार मौसम वैज्ञानिक निगरानी कार्यालय (एमडब्‍ल्‍यूओ), 18 हवाई अड्डा मौसम विज्ञान कार्यालय (एएममो) (चार एमडब्‍ल्‍यूओ सहित) और 51 एरोनॉटिकल मौसम विज्ञान स्‍टेशनों (एएमएस) के एक नेटवर्क के माध्यम से विमानन सेवाओं की आवश्यकताओं को पूरा किया जाता है। चार एमडब्‍ल्‍यूओ की जिम्‍मेदारी उनके संबंधित उडान सूचना क्षेत्रों (एफआईआर) में मौसम वैज्ञानिक स्‍थितियों पर लगातार निगरानी और इन मार्गों पर होने वाली खतरनाक मौसमी परिघटना जैसे कि गरज के साथ तूफान, उष्‍णदेशीय चक्रवातों, विक्षोभ, ज्‍वालामुखी राख आदि हेतु सिग्‍मैट (महत्‍वपूर्ण मौसम वैज्ञानिक चार्ट) तैयार करने की है, जो कि विमान के संचालन की सुरक्षा को प्रभावित कर सकते है। एएमओ अपने हवाई अड्डो विमान क्षेत्रों और उनके संबद्ध वैमानिक मौसम विज्ञान केंद्र से प्रचालित होने वाली उड़ानों के लिए पूर्वानुमान, चेतावनियां, वर्तमान मौसम प्रेक्षणों और अन्य प्रासंगिक जानकारी तैयार करने के लिए अपने विमान अड्डों पर नजर बनाए रखता है। एएमएस मुख्य रूप से वर्तमान मौसम प्रेक्षणों की आपूर्ति करता है। संबद्ध एएमओ द्वारा उनकी पूर्वानुमान की जरूरतों को पूरा किया जाता है। पट्टियों पर दृश्यता सीमा की निरंतर निगरानी(आरवीआर)   सहित अति आधुनिक स्वचालित मौसम प्रेक्षण प्रणाली (एडब्‍ल्‍यूओएस) की कमीशनिंग के माध्यम से हवाई अड्डे (विशेष रूप से रेनवे पर दृश्यता) क्षेत्र के भीतर मौसम और दृश्यता की स्थितियों हेतु मॉनीटरिंग प्रणाली शुरु की गई है। महत्वपूर्ण कोहरे पूर्वानुमान उत्पादों के साथ सर्दियों के महीनों के दौरान दिल्ली हवाई अड्डे पर मापी गई वास्तविक समय आर वी आर की स्थितियां,  दिल्ली में आईएमडी के  वेब पोर्टल पर अपलोड की गई । क्रमश: 2009-10 के दौरान दिसंबर और जनवरी महीने के लिए कोहरे पूर्वानुमान की सटीकता 94 प्रतिशत और 86 प्रतिशत थी। उत्तर भारत के हवाई अड्डों के लिए बदलती दृश्यता स्थितियों का पूर्वानुमान देने के लिए गतिशील-सांख्यिकीय मॉडल के एक फ्रेम वर्क पर कार्य किया गया है।

जल वैज्ञानिक सेवा :वर्षा तालिकाओं और मानचित्रों के रूप में वास्तविक समय दैनिक वर्षा आंकड़ों के आधार पर साप्ताहिक जिलेवार, उप-प्रभाग और राज्यवार / ऋतु  वार वर्षा वितरण सारांश तैयार किए जाते हैं। जिला वार और उपखंड वार वर्षा आँकड़े कृषि वैज्ञानिकों, योजनाकारों और निर्णय निर्माताओं को उपयोगी और महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं। बाढ़ पूर्वानुमान प्रचालन के लिए भारत के विभिन्न भागों में स्थापित दस बाढ़ मौसम वैज्ञानिक कार्यालयों (एफएमओ) के माध्यम से केन्द्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी) को वर्षा पर जानकारी दी जाती है। एफएमओ द्वारा बाढ़, क्‍यूपीएफ (मात्रात्‍मक वर्षा पूर्वानुमान) जारी किए गए तथा बाढ पूर्वानुमान प्रयोजनों हेतु केंद्रीय जल आयोग को आपूर्ति किए गए । महानदी बेसिन पर एक पायलट मोड में क्‍यूपीएफ के लिए एक एमओएस तकनीक विकसित की जा रही है। विभिन्न नदियों पर जलीय संरचनाओं, सिंचाई परियोजनाओं, बांधों आदि के लिए डिजाइन बाढ़ को अंतिम रूप देने में डिजाइन इंजीनियरों हेतु मुख्य इनपुट के रूप में उपयोग करने के लिए, विभिन्न नदी जलग्रहण / देश में परियोजनाओं हेतु तूफान अनुमान (वर्षा परिमाण और समय वितरण) का मूल्यांकन करने के लिए डिजाइन तूफान अध्‍ययन संचालित किए गए।

पर्यावरण सेवा : वायुमंडल में ट्रैस गैसों की संरचना में दीर्घ अवधि परिवर्तनों का पता लगाने के उद्देश्य से वायुमंडलीय गंदलापन के रासायनिक विश्लेषण और माप के लिए वर्षा के नमूने एकत्रित करने के लिए इलाहाबाद, जोधपुर, कोडाइकनाल, मिनिकॉय, मोहनबाड़ी, नागपुर, पोर्ट ब्लेयर, पुणे, श्रीनगर और विशाखापट्टनम में वायु प्रदूषण निगरानी स्टेशनों के नेटवर्क की स्थापना की गई। ये प्रेक्षण,   वायुमंडलीय रसायन विज्ञान की समझ में सुधार के क्रम में वायुमंडल और संबंधित पैरामीटरों की रासायनिक संरचना के विश्‍वनीय दीर्घ अवधि प्रेक्षण प्रदान करते हैं। थर्मल विद्युत उत्पादन, उद्योगों और खनन गतिविधियों से उत्पन्न होने वाले वायु प्रदूषण के प्रभावों का आकलन करने के लिए पर्यावरण से संबंधित विशिष्ट सेवाएं पर्यावरण एवं वन मंत्रालय तथा अन्य सरकारी एजेंसियों को प्रदान की गई। विभिन्न जलवायु और भौगोलिक परिस्थितियों में स्थित कई स्रोतों की वायु गुणवत्ता प्रभावों पर ध्‍यान देने के लिए विकसित किए गए वायुमंडलीय प्रसार मॉडल का उपयोग उद्योगों की स्‍थापना, पर्यावरण प्रभाव आकलन और वायु प्रदूषण नियंत्रण कार्यनीतियों को ग्रहण करने के लिए किया जा रहा है।

मेट्रोपोलिटन मौसम और वायु गुणवत्ता पूर्वानुमान प्रणाली : राष्ट्रमंडल खेल 2010 के दौरान राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लिए स्वदेशी क्षमता के साथ रिकॉर्ड समय में स्‍थल विशेष मौसम और वायु गुणवत्ता पूर्वानुमान प्रणाली को स्‍थापित किया गया। खेल वाले स्थानों सहित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्‍ली में 35 स्वचालित मौसम स्टेशन (जिनमें से 11 वायु गुणवत्ता माप के साथ लैस थे) स्थापित किए गए थे। आयोजकों को हर घंटे स्‍थलों तथा अन्‍य स्‍थानों के विभिन्‍न वायु गुणवत्‍ता और मौसम पैरामीटर उपलब्‍ध करवाए गए । पूर्वानुमानों के लिए वैश्विक से बहुत उच्च विभेदन उप-क्षेत्रीय मॉडलों से प्राप्‍त एनडब्‍ल्‍यूपी मॉडल के एक सेट का इस्तेमाल किया गया था। अगले तीन घंटों के लिए स्थल विशिष्ट पूर्वानुमान प्रदान करने के लिए भारत में पहली बार एक विशिष्ट डिजाइन नो कॉस्‍ट प्रणाली का परिचालन किया गया। परियोजना की सफलता को ध्यान में रखते हुए, इस सुविधा का भारत के अन्य मेट्रो शहरों में भी विस्तार किया जाएगा।

साहसिक खेल सहित खेल: अभियान दलों के साथ लगातार परस्‍पर क्रिया और इनके मुख्‍यालय के साथ समन्‍वय करते हुए पर्वतारोहण अभियानों के लिए कस्‍टमाइज पूर्वानुमान जारी किए गए। माउंट धौलागिरी हेतु आर्मी एडवेंचर विंग तथा माउंट एवरेस्‍ट हेतु नेहरू पर्वतारोहण संस्‍थान को पर्वतीय अभियानों के लिए पूर्वानुमान बुलेटिन जारी किए गए । आर्मी एडवेंचर विंग के अनुरोध पर माउंट सेटोपंथ, माउंट स्टोक कांगड़ी, माउंट चौखाम्‍बा और माउंट शिवलिंग के लिए मेट्रोग्राम प्रदान किया गया।

डेटा सेवाएं : : घोषित नीति के अनुसार मांग पर शोधकर्ताओं, सरकारी एजेंसियों और निजी पार्टियों को अतीत और वर्तमान का अवलोकन डेटा प्रदान किया जाता हैं। वास्तविक समय डेटा  जो  विमानन और परिवहन क्षेत्र के लिए अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण है, को समर्पित चैनलों और वेब आधारित प्रणाली के माध्यम से उपलब्ध कराया गया है। इस  डेटा को डब्ल्यूएमओ के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय मौसम सेवाओं के साथ भी स्वतंत्र रूप से साझा किया जाता है। इस योजना अवधि के दौरान इलेक्ट्रॉनिक प्रसार मोडों का मोबाइल एसएमएस सेवाओं के साथ अधिक उपयोग किया गया है।

Last Updated On 11/27/2015 - 10:40
Back to Top